प्रबंधन संरचना

 अधिशासी परिषद्

अधिशासी परिषद (जीसी) एसटीपीआई का शीर्ष प्रबंधकीय निकाय है, जो एसटीपीआई को निर्देश देती है तथा कार्य प्रणाली का पर्यवेक्षण करती है और नीतिगत निर्देश देती है । माननीय केन्द्रीय संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री, भारत सरकार अधिशासी परिषद के ’’अध्यक्ष’’ हैं । सचिव, सूचना प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार अधिशासी परिषद के ’’उपाध्यक्ष’’ हैं । अधिशासी परिषद के सदस्य वाणिज्य मंत्रालय, वित्त मंत्रालय, गृह मंत्रालय, दूरसंचार विभाग, सूचना प्रौद्योगिकी विभाग, सूचना प्रौद्योगिकी उद्योग संघ आदि के प्रतिनिधि हैं ।

महानिदेशक

महानिदेशक, एसटीपीआई अधिशासी परिषद के सदस्य-सचिव हैं तथा अधिशासी परिषद के संपूर्ण मार्गदर्षन के अंतर्गत एसटीपीआई के प्रबंध तथा प्रचालन के लिए उत्तरदायी हैं। संस्था के कुषल प्रचालन के लिए महानिदेशक को आवश्यक कार्यकारी वित्तीय शक्तियां तथा प्राधिकार प्रत्यायोजित किए गए हैं।

निदेशकों की कार्यकारी समिति

निदेशकों की कार्यकारी समिति (ई-कॉड), संस्था के घोषणा पत्र के अनुसार, संस्था का अंग है और इसके द्वारा निष्पादित कार्यों में नए प्रस्तावों/योजनाओं और बजट की जॉंच, प्रणाली समीक्षा एवं उसे तर्कसंगत बनाना, प्रबंध पद्धति से संबंधित आम विषयों यथा पदोन्नति समीक्षा, कर्मचारी कल्याण, सेवा शर्तें, शक्तियों का प्रत्यायोजन, परियोजना दायित्वों के लिए कार्मिकों की विदेष प्रतिनियुक्ति, उपस्कर खरीद, अप्राप्य बकायों और पुरानी भंडार सामग्री को बट्टे खाते में डालने संबंधी प्रस्तावों की जाँच करना शामिल है। इसके अतिरिक्त, यह समिति ऐसे ऊपर दिए गए मामलों के अलावा अन्य सभी प्रस्तावों की जाँच करती है जिसमें वित्तीय दायित्व निहित होते हैं । इन कार्यों में विभिन्न अधिकारियों की वित्तीय शक्तियों का विनियमन भी शामिल है । समिति, अधिशासी परिषद द्वारा सौंपे गए अन्य मामलों पर विचार-विमर्ष करती है और परामर्ष देती है । समिति उन कार्यों को छोड़कर जिनके निष्पादन की शक्ति समिति में निहित है, अधिशासी परिषद को परामर्ष देगी ।

ई-कॉड उप वित्त समिति का गठन करेगी, जो वित्त और लेखाओं की प्रबंध प्रणाली पर परामर्र्ष देने के अतिरिक्त व्यय हेतु वित्तीय प्रस्तावों के साथ-साथ संसाधनों को जुटाने और संस्तुति करने का कार्य करेगी । अधिशासी परिषद के समक्ष प्रस्तुत करने से पूर्व ई-कॉड इन पर विचार करेगी । इस उपसमिति के कार्य क्षेत्र में बजट, वित्तीय शक्तियों का प्रत्यायोजन, एसटीपीआई द्वारा अन्य संगठनों (सार्वजनिक और निजी क्षेत्र की कंपनियों) को दी गई सेवाओं की लागत का मूल्यांकन करना, सांविधिक लेखा परीक्षकों के प्रतिवेदनों पर विचार करना भी शामिल है ।

स्थायी कार्यकारी बोर्ड

ऐसे प्रत्येक राज्य मे जहॉं एसटीपीआई का केन्द्र है, वहां एक स्थायी कार्यकारी बोर्ड (एसईबी) का गठन किया जाएगा । यह बोर्ड नीतिगत और प्रचालन संबंधी मामलों में उद्योग और सरकार के मध्य मध्यस्थ की भूमिका निभाएगा । स्थायी कार्यकारी बोर्ड केन्द्र/उपकेन्द्र की भावी विस्तार योजनाएं तैयार करने, सुविधाओं में बढ़ोत्तरी करने, प्रत्येक एसटीपी की वार्षिक योजना, बजट तैयार करने और मुख्य कार्यकारी अधिकारी को परामर्र्ष देने का कार्य करेगा । केन्द्र/उपकेन्द्रों के प्रभारी अधिकारी स्थायी कार्यकारी बोर्ड की बैठक में भाग लेगें । महानिदेशक, यथा आवश्यक होने पर, किसी अन्य व्यक्ति को सहयोजित कर सकते हैं ।

वरिष्ठ निदेशक

वरिष्ठ निदेशक एस टी पी आई प्रधान कार्यालय के प्रमुख हैं। 

निदेशक

निदेशक एसटीपीआई केन्द्र का तकनीकी एवं प्रशासनिक प्रमुख है।