आमसवाल

  1. एसटीपी क्या है और एसटीपी इकाई होने के लाभ क्या हैं?
  2. एसटीपी इकाई कौन और कैसे बन सकता है?
  3. क्या मुझे एसटीपीआई को कोई योजना प्रस्ताव देने की आवश्यकता है?
  4. किस प्रकार के निवेश की अनुमति है?
  5. एसटीपी इकाई बनने में लगने वाले समय की न्यूनतम सीमा क्या है?
  6. बंधित गोदाम क्या है?
  7. क्या मैं किसी दूसरे स्थान से परिसंचालन कर सकता हूं?
  8. क्या एसटीपी इकाई होने के नाते मैं आंतरिक परियोजना ले सकता हूँ?
  9. पूंजीगत वस्तुएं (सीजी) क्या हैं?
  10. एसटीपी इकाई होने के उपरांत किन प्रक्रियों का पालन करना है?
  11. आवश्यकता पडने पर क्या मैं परिसंचालन का विस्तार कर सकता हूँ?
  12. आईई कोड क्या है?
  13. डीटीए क्या है?
  14. आयात क्या है और मैं एसटीपी के तहत यह कैसे कर सकता हूँ?

प्र. एसटीपी क्या है और एसटीपी इकाई होने के लाभ क्या हैं?

सॉफ्टवेयर  तकनीक उद्यान (एसटीपी) योजना कंप्यूटर सॉफ्टवेयर  के विकास और निर्यात के लिए 100% निर्यातोन्मुख योजना है। यह आंकड़ संचार लिंक का उपयोग करते हुए या व्यावसायी सेवा के निर्यात सहित वास्तविक माध्यम  के रुप में विकास और निर्यात करता है।

  • इस योजना का मुख्य आकर्षण एसटीपी इकाई को दिए जाने वाला एकल बिन्दु संपर्क सेवा है।
  • एसटीपी इकाइयाँ 2011 तक कारपोरेट आय कर के भुगतान से मुक्त हैं।
  • एसटीपी इकाइयों में हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के सभी निर्यात पूरी तरह से शुल्क मुक्त हैं।

दूसरे से प्राप्त  पूंजीगत वस्तु के निर्यात की भी अनुमति है।

प्र. एसटीपी इकाई कौन और कैसे बन सकता है?

  • भारतीय कंपनी 
  • विदेशी कंपनी की सहायक
  • विदेशी कंपनी की शाखा कार्यालय

एसटीपी योजना  के तहत एक प्रमाणित सदस्य  बनने के लिए सक्षम अधिकारी का अनुमोदन आवश्यक है। अनुमोदन हासिल करने के क्रम निम्नलिखित हैं।

  • एक एसटीपी इकाई के पंजीकरण और स्थापना के लिए निर्धारित प्रारुप में एक आवेदन भारतीय सॉफ्टवेयर  तकनीक उद्यान को प्रस्तुत  करना। 
  • आवेदन क्षमता, विशेषज्ञता के क्षेत्र, विपणन व्यवस्था, व्यवसाय योजना, वित्त के माध्यम के साथ सॉफ्टवेयर परियोजना विवरण सहित होना चाहिए।

प्र. क्या मुझे एसटीपीआई को कोई योजना प्रस्ताव प्रस्तुत करने की आवश्यकता है?

हाँ, एसटीपी आवेदन  के साथ विशेषज्ञता के क्षेत्र,  प्रमुख योग्यता,  विपणन व्यवस्था, व्यवसाय योजना,  वित्त के माध्यम के विवरण सहित एक विस्तृत परियोजना प्रस्ताव/रिपोर्ट देना आवश्यक है।

प्र. किस प्रकार के निवेश की अनुमति है?

100% विदेशी प्रत्यक्ष  निवेश, अनिवासी-प्रत्यावर्तनी, अनिवासी-अप्रत्यावर्तनी, निवास का अधिकार रखने वाले और इनके संयोजन की अनुमति है।

प्र. एसटीपी इकाई बनने में लगने वाले समय की न्यूनतम सीमा क्या है?

निवेश के प्रतिरूप के आधार पर समय सीमा निम्नलिखित प्रकार से हैः

निवेश के प्रकार,अनुमोदन अधिकारीसमय
100% निवासी स्वामीनिदेशक, एसटीपीआईएक सप्ताह
100% विदेशी  प्रत्यक्ष निवेशएफआईपीबी4 से 6 सप्ताह

प्र. बंधित गोदाम क्या है?

निजी बंधित गोदम एसटीपी योजना के  तहत निर्यात प्रक्रिया जारी रखने के लिए शीमा शुल्क अधिकारियों द्वारा घोषित गोदाम हैं।

प्र क्या मैं किसी दूसरे स्थान से परिसंचालन कर सकता हूं?

हाँ, एसटीपी के अधीन परिसंचालन देश के किसी भी स्थान से किया जा सकता है।

प्र क्या एसटीपी इकाई होने के नाते मैं घरेलू परियोजना ले सकता हूँ?

हाँ,  न्यूनतम  निर्यात निष्पादन मानदंडों को पूरा करने पर एसटीपी इकाइयाँ डीटीए में व्यापार कर सकती हैं।

प्र पूंजीगत वस्तु (सीजी) क्या है?

पूंजीगत वस्तु हार्डवेयर और बुनियादी ढांचा है। इकाइयाँ एसटीपी स्थापित करने के लिए निर्यात के जरिए  मूल्य के लिए हासिल कर रही है।

प्र. एसटीपी इकाई होने के उपरांत किन प्रक्रियायों का पालन करना है?

एसटीपीआई द्वारा स्वीकृति प्राप्त होने के उपरांत, स्वीकृत इकाई एक कानूनी करार पर हस्ताक्षर करेगी। सीमा शुल्क विभाग से निजी बंधित गोदाम लाइसेंस लेना होगा। इसके लिए सत्यापन कराने हेतु पूंज़ीगत वस्तु और देशज खरीद की सूची आवशयक है।

प्र. आवश्यकता पड़ने पर क्या मैं परिसंचालन का विस्तार कर सकता हूँ?

एसटीपी योजना  के तहत परिसंचालित एक इकाई सदैव अपने परिसंचालन का विस्तार  या उसे किसी नए स्थान पर ले जा सकती है।

प्र. आईई कोड क्या है?

आयातक निर्यातक कोड (आईई) एक अद्वितीय कोड संख्या है जो प्रत्येक आयातक-निर्यातक को जारी/अपेक्षित है।

प्र. डीटीए क्या है?

एसटीपी योजना  के अधीन संचालित  इकाइयाँ  सॉफ्टवेयर निर्यात मूल्य के 50% तक घरेलू प्रशुल्क क्षेत्र का अधिगमन कर सकती हैं।

प्र. आयात क्या है और मैं एसटीपी के तहत यह कैसे कर सकता हूँ ?

एसटीपी योजना  के अधीन संचालित  इकाइयाँ  बिना सीमा शुल्क का भुगतान किए पूंजीगत वस्तुएं ( जैसे,  कंप्यूटर हार्डवेयर व सॉफ्टवेयर और बुनियादी सुविधा सहायता) निर्यात कर सकती हैं। सामान्य मामलों में यह निर्यातक पर लागू हो सकता है।