हुब्बल्ली इस जिले का एक प्रमुख और प्रसिद्ध औद्योगिक शहर है।  इस ऐतिहासिक शहर को राया हुब्बल्ली रूप में जाना जाता था और प्राचीन काल में एलया पुरवदा हल्ली के रूप में भी पहचान थी। यह शहर विजयनगर साम्राज्य के शासनकाल में कपास और लोहे के व्यापार के लिए एक महत्वपूर्ण व्यापारिक केंद्र में तब्दील हो गया था। यह शहर अपने हथकरघा वस्त्र इकाइयों के लिए विख्यात है और यहां कपास ओटाई और प्रसंस्करण की कई मिलें है।

जिले के महत्वपूर्ण स्मारकों में से कुछ हैः सुंदर मंदिर, चर्च, मस्जिद और मठ। ये दर्शन योग्य हैं। यहां के स्वादिष्ट पेढ़ों को भी नहीं भूलाया जा सकता है।

  • एसटीपीआई-हुब्बल्ली 2001 से कार्यरत है ।यह शहर के मध्य आईटी पार्क में स्थित है।
  • यह 40 किलोमीटर के दायरे में उच्च रफ्तार इंटरनेट सेवा देने में सक्षम है।  ऊच्च तकनीक माइक्रोवेव सेटअप के साथ इसकी सेवाएं भाड़े के फाइबर या तांबे का इस्तेमाल कर उत्तरी क्षेत्र में दावणगेरे, शिमोगा और गुलबर्गा तक जा सकती हैं।
  • एसटीपीआई-हुब्बल्ली में नई कंपनियों के लिए अपने तरह का पहला इन्क्यूबेशन केन्द्र है। 4,000 वर्ग फीट का पुरी तरह सज्जित ढांचा कंप्यूटर, इंटरनेट टेलीफोन, फैक्स, फोटोकॉपियर और 24 घंटें तकनीकी मदद से लैस है। वर्तमान में यहां के इन्क्यूबेशन केन्द्र से 5 आईटी कंपनियां काम कर रही हैं।
  • एसटीपीआई हुब्बल्ली कर्नाटक में चौथा स्वतंत्र गेटवे है। इसका मुख्य केन्द्र बंगलूरू में है, जहां से देश का एक तिहाई सॉफ्टवेयर निर्यात होता है। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है।
  • एसटीपीआई 23 देशों में संपर्क स्थापित करने के लिए कम से कम 48 उच्च गति उपग्रहों और फाइबर गेटवे से संचालित है। एसटीपीआई हुब्बल्ली एसटीपी बंगलूरू का उपकेन्द्र है।