कर्नाटक क्यों

कर्नाटक हमेशा से क्रियाशीलता का समर्थक राज्य रहा है। यही वजह है कि आज आईटी गन्तव्य के रूप में देश में इसकी सबसे ज्यादा मांग है। बंगलूरू को कर्नाटक के साथ साथ भारत में अपने बेहतरीन सामाजिक, शैक्षिक और स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ वर्ष पर्यंत स्वास्थ्यवर्धक मौसम के कारण आईटी गंतव्य के रूप में बढ़त प्राप्त है।

भारत के 10 प्रतिशत स्नातक कर्नाटक से आते हैं, जो कालांतर में तकनीक और शोध आधारित संस्थानों की स्थली रहा है। कर्नाटक में आईटी के लिए उपलब्ध मूलभूत सुविधाएं देश में सर्वश्रेष्ठ में से एक हैं।

एसटीपीआई-बी और कर्नाटक सरकार ने अब राज्य में सूचना क्रांति को फैलाने में बढ़त प्राप्त कर ली है।

  • केन्द्रीय स्थिति
  • स्वास्थ्यवर्धक मौसम
  • कॉस्मोपॉलिटन संस्कृति
  • बेहतरीन सामाजिक, शैक्षिक और स्वास्थ्य सुविधाएं
  • विश्वस्तरीय तकनीकी मानव संसाधन
  • सर्वाधिक उद्योग अनुकूल जलवायु
  • कर्नाटक-21वीं सदी में भारत का औद्यौगिक गंतव्य
  • कर्नाटक-अपनी तरह का पहला  
    • निजी भागीदारी के तहत इंजीनियरिंग कॉलेज की शरुआत
    • समरूप पाठ्यक्रम हेतु तकनीकी विश्वविद्यालय की शुरुआत
    • आईटी उद्योग को बढ़ावा देने हेतु आईटी नीति बनाने वाला राज्य
    • बंगलूरू में सूचना तकनीक संस्थान की शुरुआत करने वाला राज्य
    • बंगलूरू में 1991 में सॉफ्टवेयर तकनीक उद्यान की स्थापना
  • कर्नाटक में आईटी के लिए बुनियादी सुविधाएं
    • अत्याधुनिक अंतरराष्ट्रीय तकनीक उद्यान 15 लाख वर्ग फीट में निर्माण के साथ।
    • छह नए निजा तकनीक उद्यान 60 लाख वर्ग फीट क्षेत्र में निर्माण के साथ।  
    • बंगलूरू और मैसूर में विशिष्ट इलेक्ट्रॉनिक सिटी।
    • मैसूर, हुबली और मंगलोर में सॉफ्टवेयर तकनीक उद्यान उच्च गति आंकड़े के साथ।  
    • संचार सुविधाएं।
    • देश में सर्वश्रेष्ठ बुनियादी टेलीकॉम सुविधाएं।